X

कारण और समाधान

“किसी भी व्यक्ति को चाहने वाले/ पसंद करने वाले/साथ चलने वाले बहुत मिलेंगे परन्तु, उसकी फिक्र/ परवाह/ केअर करने वाला बहुत कम लोग होते है।”

बहुत अजीब लगेगा लेकिन सच यही है कि, जो हमारी फिक्र/ परवाह करता है उसकी हम कद्र/ परवाह नहीं करते, इसे उसकी जरूरत/ मज़बूरी मानकर उसकी तरफ ज्यादा ध्यान नहीं देते।

समझ सके तो कोशिश कीजिएगा कि, हमे जीवन में अपनी परवाह करने वाले, हमारे दुख/ कष्ट को अपना मानने वाले की बहुत जरूरत होती है लेकिन उसे पहचान हम तब पाते है जब वह हमसे दूर चला जाता है।

दुःख में शामिल होना, मुसीबत में साथ देना अलग बात है लेकिन स्वयं को ही उस दुख/ मुसीबत का हिस्सा मानकर कष्ट उठाना,हर कोई नहीं करता।

admin: