शरीर में 3 महीने तक सक्रिय रह सकता है कोरोना वायरस का अंश

शरीर में 3 महीने तक सक्रिय रह सकता है कोरोना वायरस का अंश

रिसर्च के अनुसार, जिन लोगों में वायरस (Coronavirus) का प्रभाव अधिक था, उनमें ट्रीटमेंट लेने के बाद कोरोना वायरस (Covid 19) का अंश अधिक दिनों तक रहा. जिन लोगों में वायरस का अधिक प्रभाव नहीं हुआ, उनमें पोस्ट कोविड के लक्षण ना के बराबर रहे…



  • Last Updated:
    December 15, 2020, 4:30 PM IST

कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाने के बाद 14 दिन तक व्यक्ति को आइसोलेट रहना पड़ता है. ऐसा कहा जाता है कि यदि इन 14 दिन डॉक्टर द्वारा दिए गए सुझावों को ढंग से फॉलो किया जाए तो व्यक्ति की कोरोना वायरस रिपोर्ट नेगेटिव आ सकती है, लेकिन कुछ वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस को लेकर एक नया खुलासा किया है. वैज्ञानिकों के मुताबिक कोरोना संक्रमित होने के बाद व्यक्ति के शरीर में कोरोना वायरस के कुछ अंश तीन महीने तक सक्रिय रह सकते हैं. आइए जानते हैं इस रिपोर्ट के बारे में-

कोराना वायरस का जीवन चक्र

myUpchar के अनुसार, कोरोना एक विषाणु जनित रोग है. विषाणु एक बिना कोशिका का सूक्ष्मजीव है, जो नाभिकीय अम्ल और प्रोटीन से बनता है. इसकी सबसे खास बात है कि ये अपना जीवन चक्र खुद नहीं चला सकता. इसके लिए उसे किसी जीवित कोशिका की जरूरत होती है, यही वजह है यह इंसानों को प्रभावित करता है. ये हजारों वर्षों तक वातावरण में मौजूद रह सकता है. यह वायरस निर्जीव रूप में एकत्रित रह सकते हैं. जब यह हमारे संपर्क यानी किसी जीवित कोशिका के संपर्क में आता है तब यह सक्रिय हो जाता है. कोरोना वायरस मानव शरीर की कोशिका के जीन में बदलाव कर देता है, जिससे कोशिका इसका आदेश मानने लगती है. ऐसा बड़ी तेजी से होता है. हाल ही में इटली और ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने रिसर्च में पाया है कि कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति में कोरोना के अंश इलाज से ठीक होने के बाद भी मौजूद होते हैं. इस रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस के कुछ अंश 86 दिनों तक व्यक्ति के शरीर में मौजूद रह सकते हैं.

वायरस का प्रभावरिसर्च में यह भी पता चल रहा है कि जिन लोगों में वायरस का प्रभाव अधिक था, उनमें ट्रीटमेंट लेने के बाद कोरोना वायरस का अंश अधिक दिनों तक रहा. जिन लोगों में वायरस का अधिक प्रभाव नहीं हुआ, उनमें पोस्ट कोविड के लक्षण ना के बराबर रहे. myUpchar के अनुसार, कोरोना वायरस के मरीजों के लिए शुरुआती 5 दिन महत्वपूर्ण होते हैं. यदि इन पांच दिनों में अच्छी देखभाल और दवाओं से वे जल्दी ठीक होते हैं तो उनमें इसका असर काफी कम होता है. कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में ऐसा पाया गया कि उनके संक्रमित होने के कई दिनों बाद तक बीमारी का प्रभाव देखने को मिला. इनमें थकान, गले में खराश आदि लक्षण शामिल थे. वहीं कुछ मामले ऐसे भी थे जिनमें इस वायरस से संक्रमित होने के बाद कोई लक्षण नजर नहीं आए और वे अपने आप ही ठीक हो गए. इसलिए ऐसे मरीजों के शरीर से वायरस बहुत जल्दी निकल जाता है. यह बात इम्यूनिटी की मजबूती पर निर्भर करती है कि वायरस का प्रभाव किस पर अधिक और किस पर कम होगा.

जरूर रखें ये सावधानी

कई लोग इस वायरस को लेकर यह सोच रखते हैं कि इससे उन्हें कुछ नहीं होगा और वे लापरवाह हो जाते हैं. ऐसा करना काफी गलत है, क्योंकि कोरोना वायरस का संक्रमण हर किसी के शरीर में अलग-अलग तरह से अटैक कर सकता है. कुछ लोग बुखार, सर्दी खांसी के लक्षण होने पर भी अपने आप को स्वस्थ मानते हैं और कोरोना का चेकअप कराने से आनाकानी करते हैं. ऐसे लोगों में वायरस का अटैक गंभीर हो सकता है. इसमें मरीज के ध्यान न देने पर वायरस उनके फेफड़ों को खराब कर सकता है, जिससे व्यक्ति को अलग से ऑक्सीजन लेने की जरूरत पड़ सकती है. कोरोना संक्रमित को ठीक होने के बाद भी अपनी इम्यूनिटी को बेहतर करने के लिए हल्दी वाला दूध, काढ़ा जरूर लेते रहना चाहिए. साथ ही गर्म पानी के गरारे करना और स्टीम लेना बंद नहीं करना चाहिए. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कोरोना वायरस क्या है पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link