शादी के बाद महिलाएं जब बच्चे के लिए तैयार नहीं होती है, तब तक उनके लिए यह चिंता का विषय होता है कि वे गलती से गर्भवती ना हो जाएं. हालांकि इसके लिए बाजार में कई तरह के गर्भनिरोधक दवाएं और उत्पाद मौजूद हैं, लेकिन यह थोड़े खर्चीले और कम कारगर होते हैं. myUpchar के अनुसार, यदि महिलाएं किसी तरह की दवाओं के झंझट से दूर रहना चाहती हैं, तो ऐसे में कॉपर-टी लगवाना एक प्रभावी तरीका हो सकता है. आइए जानते है कॉपर-टी गर्भ ठहरने से किस प्रकार प्रभावी है.

ऐसे लगाई जाती है कॉपर-टी

कॉपर-टी का आकार अंग्रेजी के अक्षर ‘टी’ की तरह होता है, जिसमें एक प्लास्टिक रॉड होती है, साथ ही इसमें कुछ हिस्सा तांबे का लगा होता है. दरअसल तांबा शुक्राणुओं को मारने का कार्य करता है. जीवित शुक्राणुओं के बिना गर्भ ठहरना मुश्किल होता है. कॉपर-टी को 99 फीसदी प्रभावी माना जाता है. कॉपर-टी 10 से 12 साल तक कार्य कर सकती है.कॉपर-टी लगवाने के बाद क्या करें

myUpchar के अनुसार, कुछ महिलाएं मासिक धर्म के बाद कॉपर-टी के स्प्रिंग की जांच करना चाहती हैं. इसके लिए योनि में एक उंगली डाले और गर्भाशय ग्रीवा को महसूस करें. गर्भाशय ग्रीवा के पास स्ट्रिंग महसूस होनी चाहिए, लेकिन ध्यान रहे कि इस स्ट्रिंग को खींचे नहीं.

गर्भनिरोधक गोलियां व उनके साइड इफेक्ट्स से मुक्ति

कॉपर-टी लगवाने के बाद सेक्स के दौरान गर्भनिरोधक अपनाने की जरूरत नहीं है. इससे महिलाओं को गर्भवती होने का डर भी नहीं सताता है. इसे लगवाने के बाद गर्भनिरोधक गोलियां लेने से छुटकारा मिल जाता है. स्तनपान कराने के दिनों में भी कॉपर-टी को लगवाया जा सकता है. गर्भनिरोधक के अन्य उपायों की तुलना में कॉपर-टी लगवाना थोड़ा कम खर्चीला होता है.

कॉपर-टी लगवाने के बाद क्या होता है

कॉपर-टी लगवाने के बाद यह शरीर में महसूस नहीं होती है, लेकिन इसे लगवाने के बाद कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान मरोड़ और अधिक ब्लीडिंग हो सकती है. ऐसे में आईबूप्रोफेन दवा लेने पर आराम मिल सकता है. जिन महिलाओं को कॉपर-टी लगवाने के बाद मासिक धर्म के दौरान बहुत अधिक मरोड़ हो रही हो, उन्हें गर्म पानी की थैली से सिकाई करनी चाहिए.

कॉपर-टी लगवाने में जोखिम

कॉपर टी वैसे तो काफी सुरक्षित होती है लेकिन इसे लगवाने के बाद यदि 3 हफ्ते में बुखार, ठंड, पेट में तेज दर्द, छाती में दर्द, उल्टी जैसे कोई भी लक्षण दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. बहुत ही दुर्लभ मामलों में ऐसा होता है कि कोई महिला कॉपर-टी लगवाने के बाद भी गर्भवती हो जाए. कई बार ऐसा होता है कि महिलाएं पहले से गर्भवती हो जाती हैं, जिसका उन्हें पता नहीं चलता है और कॉपर-टी लगवाने के बाद उन्हें जब गर्भवती होने का पता चलता है तो उन्हें फिर से कॉपर-टी निकलवानी पड़ती है और अपने गर्भाशय की सफाई करवाना पड़ता है. इसलिए कॉपर-टी लगवाने से पहले डॉक्टर से यह सुनिश्चित करा लेना चाहिए कि वह गर्भवती तो नहीं है. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कॉपर-टी क्या है पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)





Source link