जब दो लोग आपस में जुड़ते हैं तो शुरुआत में उन्हें एक दूसरे के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती. धीरे-धीरे पता चलता है कि सामने वाला व्यक्ति कैसा है. हो सकता है कि जो आपका पार्टनर (Partner) हो उससे आपकी ना बने. दोनों के विचार और रहन-सहन अलग हों या बहुत सी बातों में दोनों में मतभेद हो. शुरुआत में आप एक-दूसरे को पसंद करते हैं, लेकिन बाद में रिश्ते की मिठास कम होने लगती है. कई बार एकसाथ रहना बोझिल बन जाता है. ऐसे में आप अपने रिश्ते को बचाने की हर कोशिश करते हैं, पर असफल हो जाते हैं. आपकी पार्टनर से छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई शुरू हो जाती है, लाइफ बोरिंग लगने लगती है, तो ऐसे रिश्ते को ढोने से अच्छा है अलग हो जाना. समस्या ये है कि कभी-कभी तो आपको समझ में आ जाता है कि अब ब्रेकअप (Breakup) का समय आ गया है, लेकिन फिर आप अपने ही फैसले को लेकर कन्फ्यूज हो जाते हैं और आगे नहीं बढ़ पाते, बस जबरदस्ती उस रिश्ते में उलझे रहते हैं.

कई बार आप एक अपमानजनक रिश्ते को ढोते रहते हैं. जब आपको अपने रिश्ते के बारे में सोचकर अच्छा महसूस हो, खुशी हो तो समझें आप सही व्यक्ति के साथ हैं. वहीं अगर आपको गुस्सा आए, तनाव महसूस हो या फिर दुखी हो जाएं तो जवाब आपके सामने है. अगर आप भी ऐसे ही ताने-बाने में फंसे हैं, तो यहां हम आपको उन संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे आपको यह समझने में आसानी होगी कि अब ब्रेकअप का समय आ गया है.

पार्टनर के साथ खुश नहीं रहना
शुरुआत में तो सब कुछ बहुत अच्छा लगता है. आप एक-दूसरे के साथ को इन्जॉय करते हैं, लेकिन बाद में हर छोटी-छोटी बातों पर बहस, लड़ाई-झगड़े का रूप ले ले तो समझें कि ब्रेकअप का वक्त आ गया है. हालांकि ऐसा नहीं है कि हेल्दी रिलेशनशिप में कपल्स के बीच कभी लड़ाई नहीं होती, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि एक साथी इमोशनली रूप से खुद को असुरक्षित महसूस करे.इसे भी पढ़ेंः दिसंबर महीने में इन 5 Unknown हनीमून डेस्टिनेशन्स से करें अपनी शादीशुदा जिंदगी की शुरुआत

जब रिश्ते में शक पैदा हो जाए
पार्टनर पर विश्वास करना किसी रिश्ते का परखने के लिए एक महत्वपूर्ण कड़ी है, क्योंकि यह हर रिश्ते की नींव होती है. जब किसी रिश्ते में शक अपने पैर जमा लेता है तो उसे बचाना मुश्किल हो जाता है. रिश्ते को लेकर आपका मन रोज कुछ न कुछ कहना चाहता है. वो इशारे करता है कि आप गलत इंसान के साथ अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, लेकिन आप उस आवाज को दबा देते हैं या अनसुना कर देते हैं.

जब न हो पछतावा
जब समझ नहीं आ रहा हो कि रिश्ते में क्या करना है तो ईमानदारी के साथ गहराई से सोचें कि ब्रेकअप करने के बाद आपकी स्तिथि क्या होगी. कहीं आप जल्दीबाजी तो नहीं कर रहे हैं. पार्टनर आपके लिए कितना जरूरी है और आपकी लाइफ में उसके क्या मायने हैं. आप उसके लिए क्या फील करते हैं. अगर आपको लगता है कि उसके दूर जाने से आपको फर्क नहीं पड़ेगा, हालांकि आप उसे दुखी नहीं करना चाहते. लेकिन आपने अपना फैसला ले लिया है कि आपको ये करना है तो पीछे मुड़ने की कोई वजह ही नहीं रहती.

जब किसी के साथ होकर भी न हों
कभी-कभी मन में रिश्ते को लेकर कई तरह के सवाल आते हैं लेकिन जब ऐसा लगातार होने लगे तो समझ जाएं कि कुछ तो है जो नहीं होना चाहिए. मान लें कि आप आपने पार्टनर के साथ डेट पर गए हैं और आपके मन में किसी और का ख्याल आ रहा हो तो आपको क्या करना चाहिए. इस ख्याल के आने का ये मतलब नहीं है कि आपका कैरेक्टर खराब है. ये आपकी फीलिंग हैं. हो सकता है अभी भी आप अपने एक्स से जुड़ें हों या फिर आपको किसी और से प्यार हो और गलती से किसी और को डेट कर रहे हैं. ऐसे हालात में इस रिश्ते को बढ़ाने का कोई मतलब ही नहीं होता, क्योंकि ऐसा करने से आप दोनों को ही खुशी नहीं मिलेगी.

जब अपने लिए अच्छा महसूस न करें
इस बात को जरूर समझना चाहिए कि आपको इस रिश्ते से खुशी मिलती है या फिर आपके ऊपर इसका बुरा असर पड़ रहा है. आपका पार्टनर आपको सपोर्ट करता है या फिर बस आपकी कमियों को गिनाने में लगा रहता है. रिलेशन में कपल्स एक दूसरे की हिम्मत को बढ़ाते हैं, अच्छा महसूस करवाते हैं और हौसला अफजाई करते हैं न कि डिमोटिवेट करते हैं. अगर आपका साथी आपके आत्मविश्वास को कम करके आपको दुखी करता है, तो समझ जाएं कि उससे दूरी बनाने का ये रेड सिग्नल है.

दोस्तों की बात को अनदेखा न करें
आप रिश्ते को खत्म करने के कारणों के बारे में सोच नहीं पा रहे हैं और इसलिए अपने करीबी दोस्तों की मदद ले रहे हैं. अगर आपके खास लोग आपके रिश्ते की तारीफ करते हैं और मोटिवेट करते हैं तो यह अच्छी बात है. वहीं दूसरी तरफ वह लोग इस रिश्ते को तोड़ने की बात करें जिनपर आप भरोसा करते हैं और जो लोग आपको सच मे प्यार करते हैं तो इस बारे में गंभीरता से जरूर सोचें. हो सकता है कि आपके परिवार वाले हमेशा सही न हों या फिर वे जिसे आपके लिए चुने वो भी सही साथी न हो, लेकिन अगर ऐसे लोग आपसे बोलते हैं कि इस रिश्ते से आगे निकल जाओ तो इस बारे में जरूर सोचें.

इसे भी पढ़ेंः दिल्ली में हैं? तो नया साल मनाने और वीकेंड्स के लिए बेस्ट हैं ये जगहें

कारणों को स्पष्ट रूप से समझें
अगर आपको लगता है कि आप जल्दबाजी कर रहे हैं तो अपने साथी के साथ डेट पर जाना जारी रखें. आप फैसला लेने से पहले एक दो लिस्ट बनाएं. एक जिसमें साथ रहने के कारण और दूसरे में ब्रेकअप के कारणों का जिक्र करें. अब दोनों लिस्ट को देखें और कारणों की तुलना करें. इसके बाद आपको फैसला लेने में आसानी होगी.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)





Source link