सर्दियों में इन लड्डुओं को खाने से ढेरों फायदें होते हैं.

सर्दियों में इन लड्डुओं को खाने से ढेरों फायदें होते हैं.

गोंद के लड्डू (Gond ke Laddu) को तीन महीने तक रखकर खाया जा सकता है. रोजाना सुबह नाश्ते में एक या दो लड्डू खा सकते हैं और सर्दी (Winter Season) में खुद को स्वस्थ रख सकते हैं.



  • Last Updated:
    December 18, 2020, 11:30 AM IST

सर्दियों में अक्सर आपने घरों में गोंद के लड्डू (Gond ke Laddu) तैयार होते देखे होंगे. ये लड्डू बच्चों और बड़ों दोनों को खूब पसंद आते हैं और इसके कई फायदे भी हैं. ठंड के मौसम (Winter Season) में गोंद के लड्डू का सेवन करने से शरीर को गर्माहट मिलती है. इसमें प्राकृतिक गोंद यानी खाद्य गोंद होती है, जिसे पेड़ों की छाल से निकाला जाता है. आमतौर पर गोंद के लड्डू को देसी घी, गोंद, नारियल का बूरा, बहुत सारे नट्स और ड्राई फ्रूट्स से तैयार किया जाता है.

myUpchar के अनुसार गोंद के लड्डू (Gond ke Laddu) को तीन महीने तक रखकर खाया जा सकता है. रोजाना सुबह नाश्ते में एक या दो लड्डू खा सकते हैं और सर्दी (Winter Season) में खुद को स्वस्थ रख सकते हैं. इससे मिलने वाले फायदे को देखते हुए गर्भवती महिलाओं से लेकर स्तनपान कराने वाली माताओं तक को गोंद से बने लड्डू खाने की सलाह दी जाती है. सर्दियों में इसे अपने आहार में शामिल करने से ढेरों फायदें होते हैं.

गोंद और गोंद कतीरा दोनों है अलगकई लोग गोंद कतीरा और गोंद को एक समझ लेते हैं. वास्तव में दोनों अलग-अलग हैं. दोनों के विपरीत प्रभाव होते हैं. गोंद जहां शरीर को गर्मी देता है, वहीं गोंद कतीरा शरीर को ठंडा करता है. myUpchar के अनुसार गोंद कतीरा गर्मी के मौसम में शरीर का तापमान कम करता है.

ये भी पढ़ें – आईवीएफ तकनीक का लाभ लेने से पहले जरूर जान लें ये बातें

ये हैं गोंद के फायदे

  • यह गिरते तापमान में शरीर को गर्म रखने में मदद करता है.
  • यह शरीर को ठंड, मौसमी वायरस के संक्रमण से बचाता है और सर्दी की बीमारियों से सुरक्षित रखता है.
  • यह उन लोगों के लिए पौष्टिक विकल्प है जो कि सर्दियों के मौसम में थके हुए और ऊर्जा की कमी महसूस करते हैं.
  • यह आंखों की रोशनी में सुधार करता है.
  • यह प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और अगर गोंद के लड्डू को गुड़ के साथ तैयार किया जाता है तो यह  स्टेमिना में भी सुधार करता है.
  • यह प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होता है, जो हड्डियों और ऊतकों को मजबूत बनाता है.
  • गोंद के लड्डू गठिया में भी फायदेमंद होते हैं क्योंकि यह जोड़ों को चिकनाई देता है. यह पीठ और जोड़ों के दर्द से राहत देता है.
  • हाई फाइबर के कारण यह कब्ज के इलाज में प्रभावी है.
  • यह पुरुषों में यौन कमजोरी में भी सुधार करता है.
  • यह गर्भवती महिलाओं के लिए पौष्टिक भोजन है क्योंकि यह हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है और बच्चे के जन्म के बाद पीठ दर्द से बचाता है.

ये भी पढ़ें – सर्दियों में मिलने वाले ये साग, आपकी सेहत का रखेंगे खास ख्‍याल

  • स्तनपान कराने वाली माताओं को अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होती है, ऐसे में गोंद का लड्डू कारगर है और यह तेजी से रिकवरी करने से मदद करता है. यह दूध के उत्पादन को भी बढ़ाता है.
  • कब्ज से परेशान लोगों के लिए इसका सेवन फायदेमंद साबित होता है. रोजाना एक लड्डू खाने से इस परेशानी को दूर किया जा सकता है.
  • शरीर में खून की कमी को पूरा करने के लिए भी गोंद के लड्डू का सेवन किया जा सकता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गोंद कतीरा के फायदे पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link