कितनी सच है 5G से कोरोना फैलने की बात? संयुक्तराष्ट्र की तकनीकी एजेंसी ने बताया

कोरोना वायरस के खौफ में लोग 5G मोबाइल टावर में आग लगा रहे हैं

एजेंसी ने कहा है कि नवीनतम उच्च गति वाली ब्रॉडबैंड तकनीक 5G की कोविड-19 के प्रसार में कोई भूमिका नहीं है और कोरोना वायरस और इसके बीच संबंध की बात ‘एक अफवाह है.

संयुक्तराष्ट्र सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी (ICT) एजेंसी ने कहा है कि नवीनतम उच्च गति वाली ब्रॉडबैंड तकनीक 5G (broadband technology) की कोविड-19 के प्रसार में कोई भूमिका नहीं है और कोरोना वायरस (coronavirus) और इसके बीच संबंध की बात ‘एक अफवाह है, जिसका कोई तकनीकी आधार नहीं है.’ दुनिया भर में कोविड-19 महामारी फैसले के बाद से आयरलैंड, साइप्रस और बेल्जियम सहित कई यूरोपीय देशों में 5G नेटवर्क के टावर-उपकरण की तोड़-फोड़ की खबरें आ रही हैं.

यूएन न्यूज़ की एक खबर में कहा गया है कि ब्रिटेन में दर्जनों टावरों को निशाना बनाया गया और उन पर काम कर रहे कुछ इंजीनियर्स के साथ बुरा बर्ताव किया गया.

(ये भी पढ़ें- WhatsApp कॉलिंग को लेकर हुआ बड़ा बदलाव, जानें ग्रुप कॉल में कैसे ऐड करें 4 से ज़्यादा लोग)

अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ (ITU) की प्रवक्ता मोनिका गेहनेर ने बुधवार को यूएन न्यूज को बताया कि 5G और कोविड-19 के बीच संबंध की बात एक अफवाह , जिसका कोई तकनीकी आधार नहीं है. उन्होंने कहा, ‘कोरोना वायरस रेडियो तरंगों से नहीं फैलता है.इस महामारी के दौरान जब असली चिंताएं आम लोगों के स्वास्थ्य और आर्थिक संकट के बारे में हैं, यह सच में शर्म की बात है कि हमें समय या ऊर्जा को इस तरह की झूठी अफवाहों से लड़ने में लगाना पड़ रहा है.’  5G अगली पीढ़ी की सेलुलर तकनीक है, जिसमें डाउनलोड गति वर्तमान 4जी नेटवर्क की तुलना में 10 से 100 गुना तेज है.

ये भी पढ़ें- 4 कैमरे वाले इस नए 5G फोन के दीवाने हुए लोग, 1 मिनट में बिक गए 300 करोड़ रुपये के स्मार्टफोन

ये भी पढ़ें- 6 हज़ार रुपये सस्ता हुआ 48 मेगापिक्सल तीन कैमरे वाला OnePlus का ये स्मार्टफोन, लुक भी ज़बरदस्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: April 23, 2020, 4:00 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here