• किभी भी इंसान में कोरोना का संक्रमण किद हद तक बढ़ता है यह उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है, इसलिए सावधानी जरूर बरतें
  • लॉकडाउन में आप खाली या अकेले न रहें, आसपास के लोगों से बात करें बस 2 मीटर की दूरी का दायरा बनाकर रखें

दैनिक भास्कर

Apr 23, 2020, 03:55 PM IST

नई दिल्ली. इलाज के बाद कोरोना से मुक्त हो चुके लोगों से कितनी दूरी बनाकर रखने की जरूरत है, एक दिन में कितनी बार हाथ धोना चाहिए और लॉकडाउन के बीच दिमागी रूप से कैसे स्वस्थ रहें, ऐसे कई सवालों के जवाब ऑल इंडिया रेडियो ने जारी किए हैं। डॉ. के श्रीनाथ रेड्‌डी, अध्यक्ष, पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया से जानिए कोरोना से जुड़े ऐसे कई सवालों के जवाब…  

#1)  सवाल : किसी इलाके में कोरोना से मौत हुई तो वहां जाना सुरक्षित है या नहीं?
अगर उस इलाके में संक्रमण अधिक नहीं है या उसे हॉटस्पॉट घोषित नहीं किया गया तो वहां जाने में खतरा नहीं है।

#2) क्या कोरोना से ठीक हो चुके लोगों से दूरी बनाए रखने की या डरने की जरूरत है?
जिनको यह संक्रमण हुआ है और वे इलाज के बाद ठीक होकर घर जा चुके हैं उनसे डरने की जरूरत नहीं है। अगर परिवार के लोग हैं तो वो उसके पास जा सकते हैं लेकिन वह किसी बाहरी से मिल रहा है तो सोशल डिस्टेंसिंग को बनाकर रखने की जरूरत है। अक्सर ऐसा होता है जब कोई इलाज के बाद लौटता है तो लोग उसे परेशान करते हैं। ऐसा न करें क्योंकि वो ठीक होकर आया है। ठीक न होता तो अस्पताल उसे डिस्चार्ज ही नहीं करता।

#3) अलग-अलग लोगों में यह संक्रमण कम या ज्यादा भी हो सकता है?
नहीं, अगर कोई कोरोना के संक्रमण की चपेट में आया तो वायरस का असर बढ़ता ही जाता है। लेकिन यह किस हद तक बढ़ता है, यह व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। यह बात हमें पहले से पता नहीं होती कि किसमें वायरस का असर अधिक होगा और किसमें कम। इसलिए सावधानी सभी को बरतनी है। 

#4) एक दिन में कितनी बार हाथ धोना चाहिए?
अगर आप किसी इंसान या सामान को छूते हैं तो हाथ धोना जरूरी है। जैसे घर के बाहर जाते हैं तो दरवाजा छुएंगे और अनजाने में कई चीज उठाएंगे भी। इसलिए वापस आने पर हाथ जरूर धोएं। अगर किसी से सीधे सम्पर्क में आए हैं तो संक्रमण सबसे पहले हाथों से ही अंदर जाता है। कम से कम दिन में 6 बार हाथ धोना ही चाहिए। 

#5) कोरोनावायरस के आंकड़े 20 हजार के करीब पहुंच गए, इसे कैसे देखते हैं?

पहले खतरे की जितनी आशंका जताई जा रही थी वो खतरा फिलहाल नहीं है। अभी वायरस फैलने की गति धीमी हो गई है लेकिन खतरा टला नहीं है। पूरे देश में तो नहीं लेकिन कुछ इलाकों में संक्रमण के मामले अब भी बढ़ रहे हैं। सरकार उसे खत्म करने के लिए प्रयास कर रही है, एक बड़े देश के लिहाज से अपने यहां स्थिति काफी कंट्रोल में हैं। 

#6) नॉनवेज की दुकानें फिर खुल गई हैं, क्या इससे कोरोना का संक्रमण होता है?
नॉनवेज का कोरोनावायरस से कोई लेना-देना नहीं है। पहले कुछ संक्रमण थे, जो मुर्गी से फैलते थे लेकिन वर्तमान में जो कोरोनावायरस है इंसान से इंसान को फैलता है। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है।

#7) इस समय बाल कैसे कटाएं?
अभी बाहर जाकर बाल कटवाने का रिस्क न लें। भले ही आप और नाई मास्क लगाकर ऐसा करें लेकिन एक मीटर की दूरी तो बना नहीं पाएंगे। इसलिए संक्रमण का खतरा बढ़ेगा। अभी लॉकडाउन में दुकाने भी बंद हैं। इसलिए घर पर ही परिवार के सदस्यों की मदद से बाल काट लें या फिर लॉकडाउन खुलने का इंतजार करें।

#8) लॉकडाउन में मानसिक रूप से कैसे स्वस्थ रहें?
लॉकडाउन में आप खाली या अकेले न रहें। परिवार के साथ समय बिताएं, उनसे बात करें। बालकनी  या खिड़की है तो सूरज की रोशनी लें। इससे काफी फायदा होता है। बहुत से लोग इधर-उधर फंस गए हैं अपने घर नहीं जा पाए हैं। वो भी जहां हैं वहीं रहकर आसपास के लोगों से बात करें, उसमें मनाही नहीं है। बस 2 मीटर की दूरी का ध्यान रखें। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here