Cyclone Amphan: पश्चिम बंगाल में अम्फन का कहर, तस्वीरों में देखिए पानी में डूबा एयरपोर्ट और तूफान से प्रभावित इलाके

अम्फन तूफान के गुजरने के बाद कोलकाता एयरपोर्ट की तस्वीर.

खास बातें

  • पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा मचाई तबाही
  • पश्चिम बंगाल में करीब 12 लोगों की मौत
  • तूफान ने हजारों घरों को तहस-नहस किया

कोलकाता:

चक्रवाती तूफान अम्फन (Cyclone Amphan) ने ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) में सबसे ज्यादा तबाही मचाई. इसकी वजह से बंगाल में करीब 12 लोगों की मौत की खबर है. तूफान ने हजारों घरों को तहस-नहस कर दिया. बड़ी इमारतों को काफी नुकसान पहुंचा है. हजारों पेड़ उखड़ गए. तबाही की तमाम तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. कोलकाता और उसके आसपास के इलाकों में हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटे रही, जबकि दमदम में शाम 7 बजकर 20 मिनट पर हवा की रफ्तार 133 किमी प्रति घंटे रिकॉर्ड की गई.

vo83ic9g

यह भी पढ़ें

अम्फन की वजह से भारी बारिश हुई और कई इलाकों में भारी मात्रा में जलभराव देखने को मिला. कोलकाता एयरपोर्ट में भी पानी भर गया और तेज हवाओं से एयरपोर्ट का कुछ हिस्सा भी मामूली रूप से क्षतिग्रस्त हुआ है. एयरपोर्ट की सभी सेवाओं को आज सुबह 5 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया था. फिलहाल कार्गों और बचाव संबंधी ऑपरेशन शुरू कर दिए गए हैं.

9p02gabo

अम्फन के गुजरने के बाद कोलकाता के रिहायशी इलाकों में हजारों पेड़ गिरे नजर आए. पेड़ गिरने से सैकड़ों गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं.

6gcblqlg

पेड़ों के गिरने से बिजली की तारें भी टूट गईं, जिसके चलते कई इलाकों की बिजली गुल रही. राहत टीमें व्यवस्था को दुरुस्त करने की कोशिशों में जुटी हैं.

cug93ml8

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने अम्फन तूफान से करीब 1 लाख करोड़ रुपये तक के नुकसान की आशंका जताई है.

v4oigdg

CM ममता बनर्जी ने कहा कि तूफान से मृतकों की संख्या 12 तक भी जा सकती है. जबरदस्त तूफानों में से एक इस चक्रवाती तूफान ने दो जिलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है.

m7sj44q

बता दें कि चक्रवात दोपहर में करीब ढाई बजे पश्चिम बंगाल में दीघा और बांग्लादेश में हटिया द्वीप के बीच तट पर पहुंचा. चक्रवात के कारण तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही हुई.

r6qmlmug

चक्रवात की वजह से बड़ी संख्या में कच्चे मकानों को भी खासा नुकसान हुआ है. अधिकारियों के अनुसार, चक्रवात आने से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा में कम से कम 6.58 लाख लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here