दैनिक भास्कर

Nov 28, 2019, 07:59 PM IST

हेल्थ डेस्क.  कहते हैं पेट सही तो सब सही। पेट सही होने के लिए पाचन क्रिया सही होना जरूरी है। लेकिन अव्यवस्थित जीवनशैली और खान-पान के कारण अधिकतर लोगों का पाचन कमजोर होता है। इसके कारण पेट में दर्द, गैस, पेट फूलना या पेट साफ नहीं होने जैसी समस्याएं होती हैं। ऐसे में योग अपनाकर इसे दुरुस्त कर सकते हैं।

सुप्तवीरासन

पैरों को पीछे मोड़ते हुए (वज्रासन में बैठें) पैरों को तस्वीर अनुसार रखते हुए बैठ जाएं। हाथों को सिर के ऊपर रखें और गहरी सांस ऐसे लें, जैसे सो रहे हैं। कमर के ऊपरी हिस्से को रखने के लिए तकिए का भी सहारा ले सकते हैं।

बैठ जाएं और तस्वीर अनुसार घुटने मोड़कर बैठें। दोनों हाथों को पीछे की तरफ ले जाएं और आपस में पकड़ें। अब इसी अवस्था में बाईं तरफ पीछे की ओर घूमें और ऊपर की तरफ देखें। कुछ देर इसी अवस्था में रहें। फिर यही प्रक्रिया दूसरी तरफ दोहराएं।
 

पीठ के बल लेट जाएं। फिर दोनों पैरों को मिलाकर रखें। दांया पैर उठाएं और घुटने से मोड़कर जांघ को पेट पर लाएं। हाथों की उंगलियों को फंसाएं और ठीक घुटने के नीचे पकड़ें। सांस छोड़ते हुए घुटने को दबाते हुए छाती की ओर लाएं। फिर सिर उठाएं और घुटने के निकट लाएं। ठुड्डी से घुटने को स्पर्श करें। कुछ देर इस स्थिति में रहें और फिर सांस लेते हुए पैरों को ज़मीन पर लेकर आएं। इसे क्रिया को दूसरे पैर से भी करें। पूरी प्रक्रिया 3 से 5 बार दोहराएं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here