• खाने की बर्बादी के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले उद्यमी मशाल अल्काहरशी ने खास किस्म की प्लेट को डिजाइन किया है
  • अल्काहरशी का दावा- इससे 30% तक खाने की बर्बादी में कमी आई है, प्लेट को कई रेस्तरां में इस्तेमाल किया जा रहा

दैनिक भास्कर

Dec 17, 2019, 08:52 AM IST

लाइफस्टाइल डेस्क. सऊदी अरब में हर साल हर घर 250 किलो खाना फेंका जाता है। इस बर्बादी को रोकने के लिए खास किस्म की प्लेट डिजाइन की गई है। जिसमें खाना ज्यादा दिखाई देता है। थाली के बीचोंबीच गहराई ज्यादा न होने के कारण इसमें खाना कम परोसा जाता है, लेकिन खाने वाले को ज्यादा दिखता है। इस तरह बर्बादी रोकना आसान हो जाता है। इसे तैयार करने वाले उद्यमी मशाल अल्काहरशी का दावा है कि थाली की मदद से 30% तक खाने की बर्बादी कम हुई है। 

सऊदी अरब में खाना पेश करने का तरीका थोड़ा अलग है। थाली में ज्यादा खाना सर्व किया जाता है। अल्काहरशी की प्लेट को अब सऊदी के कई रेस्तरां में इस्तेमाल किया जा रहा है। इनका दावा है कि इस प्लेट की मदद से सालभर में करीब 3000 टन चावल की बर्बादी रोकी जा सकती है।

बर्बादी की वजह- कम कीमत में खाना मिलना

पिछले साल हुई रियाद की किंग सऊद यूनिवर्सिटी की रिसर्च के मुताबिक, यहां सरकारी सब्सिडी के कारण खाना बेहद कम कीमत पर आसानी से उपलब्ध होता है, जिसे यहां के स्थानीय निवासी गंभीरता से नहीं लेते और नतीजा बर्बादी के रूप में सामने आता है। सऊदी में खाने को पोषक तत्व मिलने का जरिया नहीं, बल्कि सांस्कृतिक पहचान के रूप में देखा जाता है। लोग ज्यादा खाने की आदत और बढ़ते वजन को नजरअंदाज करते हैं। 

40% मोटापे से जूझ रही

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, सऊदी अरब में 40% आबादी मोटापे से जूझ रही है। देश में तेल की कीमतों में वृद्धि के दौरान लोगों के तीन ही शौक होते थे- शॉपिंग, खाना एंजॉय करना और प्रार्थना करना। हालांकि, इसमें समय के साथ बदलाव हुए हैं।

सरकार से बर्बादी पर लगाम लगाने की गुजारिश

सऊदी फूड बैंक और दूसरी संस्थाएं और होटल, शादी के आयोजन स्थलों से अतिरिक्त खाने को इकट‌्ठा करती हैं और उन्हें जरूरतमंदों तक पहुंचाती हैं। संस्थाएं सरकार से खाने की बर्बादी करने वालों को दंडित करने की गुजारिश भी कर चुकी हैं। जल एवं कृषि मंत्रालय के मुताबिक सऊदी अरब में हर घर सालाना 250 किलो बर्बाद करता है, जबकि इसकी तुलना में वैश्विक स्तर 115 किलोग्राम का है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here