एजुकेशन और इंडस्ट्री इसी गैप को दूर करने के लिए साल 2017 में श्वेता दोशी, मितुल ठक्कर और मयूरेश शिलोत्री ने एडटेक स्टार्टअप Greyatom की शुरुआत की.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    December 25, 2019, 3:58 PM IST

नई दिल्ली. हमारी रोजाना की जिंदगी में टेक्नोलॉजी जिस तरह अपनी जगह बना रही है. वहीं एजुकेशन का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है. ऐसे में पुराने ढर्रे से चल रहे एजुकेशन सिस्टम को इनोवेटिव और बेहतर बनाने के लिए एडटेक (edtech) स्टार्टअप्स ने कमर कसी है. आज हम ऐसे ही स्टार्टअप Greyatom की बात करेंगे. जो हमारे युवाओं को स्किल्ड करके रोजागार के मौका बढ़ा रहा है.

सागर दावड़े, जो कुछ वक्त पहले तक कंपनी में बतौर सेल्स मैनेजर काम कर रहे थे. लेकिन डाटा साइंस में बढ़ते मौके को इन्होंने वक्त पर समझा. Greyatom का साथ मिला और अब ये रिप्यूटिड कंपनी में डाटा साइंटिस्ट क तौर पर काम कर रहे हैं. अभिनी शेट्टी की कहानी भी अलग नहीं है. Greyatom से लर्निंग के बाद ये अपने सपनों को उड़ान दे पा रही हैं.

3 दोस्तों ने मिलकर शुरू की कंपनी
बदलते दौर के साथ टेक्नोलॉजी ने हमारे एजुकेशन सिस्टम पर भी असर डाला है. लेकिन आज भी ऐकडेमिक के जरिए युवा स्किल्ड नहीं हो पा रहे हैं. एजुकेशन और इंडस्ट्री इसी गैप को दूर करने के लिए साल 2017 में श्वेता दोशी, मितुल ठक्कर और मयूरेश शिलोत्री ने एडटेक स्टार्टअप Greyatom की शुरुआत की. ये भी पढ़ें: Petrol-Diesel के बाद अब CNG की भी होगी होम डिलिवरी, एक कॉल पर मिलेगी ये सुविधा

कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर होने की वजह से श्वेता, मितुल और मयूरेश ने अपने करियर में आई दिक्कतों से सबक लेते हुए ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार किया है जिससे लर्नर को ज्यादा से ज्यादा से प्रैक्टिल नॉलेज ले सके. ये स्टार्टअप फिलहाल डाटा साइंस, मशीन लर्निंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और फंट एंड बेकेंड इंजीनियरिंग से जुड़े कोर्सेस करा रहा है.

नौकरी लगने पर सैलरी से लेते हैं फीस
जितना Greyatom का लर्निंग स्टाइल अलग है उतना ही इनका रेवेन्यू मॉडल भी. Greyatom का लर्नर बनने के लिए पहले एंट्रेंस टेस्ट पास करना पड़ता है. फिर कोर्स के बाद जब नौकरी लगती है तो सैलरी का कुछ परसेंट बतौर फीस के तौर पर देना होता है.

क्वालिटी एजुकेशन पर फोकस करने वाले इस स्टार्टअप में अबतक करीब 1800 लर्नर एनरोल कर चुके हैं जिसमें से करीब 700 लोगों की प्लेसमेंट हो चुकी है. इस सेक्टर में बढ़ती डिमांड को देखते हुए Greyatom अपने एक्सपेंशन प्लान पर तेजी से काम कर रही है.

ये भी पढ़ें: सरकार ने जारी की पोस्ट ऑफिस की नई फिक्सड डिपॉजिट स्कीम, जानिए इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

महज एक साल के अंदर Greyatom के आइडिया को निवेशकों ने पसंद किया और सीरीज A फंडिंग के दौरान कंपनी ने 18 करोड़ रुपए जुटाए हैं. पिछले कुछ सालों में गूगल, अमेजॉन, माइक्रोसॉफ्ट, लिंक्डइन, फेसबुक और ट्विटर जैसी कंपनियों में टेक्नलॉजी बेस्ड स्किल्ड प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ी है. ऐसे में Greyatom जैसे स्टार्टअप एक बड़ी भूमिका अदा कर रहे हैं.

(हर्ष वर्मा, संवाददाता- CNBC आवाज़)

ये भी पढ़ें:
किसानों के लिए जरूरी खबर! बैंक खाते और आधार की ये गलती पड़ेंगी भारी, नहीं मिलेंगे 6000 रुपये
बैंक अब जारी करेंगे पीपीआई कार्ड! 10 हजार रुपये तक की शॉपिंग के साथ-साथ कर सकेंगे ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: December 25, 2019, 3:51 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here