दैनिक भास्कर

Dec 09, 2019, 06:48 PM IST

हेल्थ डेस्क. गर्मी के दिनों में पानी पीने के लिए कोई अलार्म नहीं लगाना पड़ता। गर्मी के मौसम में आपका शरीर ही खुद पानी मांग लेता है। लेकिन ठंड के दिनों में ऐसा नहीं होता। चूंकि आपको पसीना नहीं निकलता, इसलिए आपका शरीर भी पानी नहीं मांगता। परिणामस्वरूप हम सर्दी के मौसम में पानी की मात्रा कम कर देते हैं। शरीर पानी न मांगे, तो इसका मतलब यह नहीं होता कि आपके शरीर को पानी की जरूरत भी नहीं है। डाइट एंड वेलनेस एक्सपर्ट से जानिए डॉ. शिखा शर्मा से जानिए सर्दी के मौसम में भी पर्याप्त पानी पीना क्यों जरूरी हैं… 

वजह 1: त्वचा को सूखेपन से बचाने के लिए

सर्दियों के दिनों में मौसम अन्य दिनों की तुलना में ज्यादा शुष्क होता है। इसके अलावा जब आप अपेक्षाकृत गर्म कमरे से बाहर ठंडे वातावरण में जाते हैं तो बाहर बहने वाली ठंडी हवा से आपकी त्वचा रूखी-सूखी हो जाती है। सर्दियों के दिनों में कई लोगों की त्वचा तो छिलने भी लगती है। त्वचा संबंधी और समस्याएं भी होती हैं। इसलिए त्वचा स्वस्थ, नमीयुक्त और चमकदार बनी रहे, इसके लिए तो सर्दियों में नियत अंतराल में और भी ज्यादा पानी पीने की जरूरत है।

गर्मी के दिनों में थोड़ा-सा भी काम करने या धूप में निकलने पर पसीना काफी तेजी से निकलता है। तेजी से एकसाथ पसीना निकलने से हमें पानी की जरूरत ज्यादा महसूस होती है। इससे हम पानी पीने को प्रेरित होते हैं। लेकिन सर्दी के दिनों में पसीना एक-साथ तेजी से बाहर नहीं निकलता, बल्कि धीरे-धीरे निकलता है। इसलिए हमारा शरीर एकदम डिहाइड्रेट नहीं होता और इससे हमें पानी पीने की जरूरत भी महसूस नहीं होती। लेकिन हमारा शरीर तो डिहाइड्रेट हो रहा है और डिहाइड्रेशन के तमाम नुकसान भी हो रहे हैं। इसलिए सर्दियों के दिनों में भी उतना ही पानी पीना जरूरी है, जितना गर्मियों के दिनों में हम पीते हैं।

सर्दियों में अधिकांश लोगों का चाय-कॉफी यानी कैफिन का इनटेक बढ़ जाता है। यह सर्वविदित तथ्य है कि हम जितनी ज्यादा चाय-कॉफी पिएंगे, शरीर में डिहाइड्रेशन भी उतना ही अधिक होगा। कई लोग ज्यादा एनर्जी के लिए चाय-कॉफी पीते हैं, लेकिन डिहाइड्रेशन होने से इसका उलटा असर हो सकता है। इसलिए इस कैफिन को संतुलित करने के लिए हमें ज्यादा पानी पीना होगा। इसका सीधा-सा हिसाब यह है कि अगर एक कप चाय-कॉफी पी रहे हैं, तो उसके 10 मिनट पहले अतिरिक्त दो कप की मात्रा के बराबर पानी पिएं।

ऐसा माना जाता है कि सर्दियों के मौसम में भूख अन्य मौसम की तुलना में ज्यादा लगती है। इसलिए इस मौसम में अक्सर वजन बढ़ने की समस्या भी होती है। लेकिन एक तथ्य यह भी है कि चूंकि सर्दियों के मौसम में हम पानी कम पीते हैं, इसलिए भी हम ओवरईटिंग कर लेते हैं। अगर आप पर्याप्त पानी पीना जारी रखेंगे तो उतना ही खाएंगे जितनी कि शरीर को जरूरत होगी। पर्याप्त पानी पीने से हमारा पाचन तंत्र भी अच्छी तरह से काम करता है और मेटाबॉलिज्म भी बेहतर बना रहता है, जिससे हमारा वजन संतुलित बना रहता है। तो अगर चाहते हैं कि सर्दियों में वज़न ना बढ़े तो पर्याप्त पानी पिएं।

हम जितना डिहाइड्रेटेड रहेंगे, यानी जितना कम पानी पिएंगे, हमारा प्रतिरक्षा तंत्र (इम्युनिटी सिस्टम) उतना ही कमजोर बनेगा। सर्दी के मौसम की शुरुआत में जैसे ही हमारा वॉटर इनटेक कम होता है, प्रतिरक्षा तंत्र के कमजोर पड़ने की वजह से हम सर्दी-जुकाम और वायरल फीवर जैसी समस्याओं से परेशान होने लगते हैं। अगर हम पर्याप्त पानी पिएंगे तो सर्दी-खांसी जैसी कई बीमारियों से बचे रहेंगे। सर्दियों के दिनों में कई लोगों को पैरों में ऐंठन (क्रैम्प) की समस्या भी होती है। इसकी एक वजह पानी की कमी भी होती है।

यह जरूरी नहीं है कि हम सर्दियों में केवल पानी पीकर ही शरीर को हाइड्रेट करें। आप पानी के अलावा अन्य द्रव्य पदार्थों का भी ज्यादा सेवन कर शरीर में पानी की पर्याप्त आपूर्तिकर सकते हैं। इनमें सूप सबसे बेहतर विकल्प है। इसमें न केवल पर्याप्त मात्रा में पानी होता है, बल्कि ठंड के मौसम में होने वाले सर्दी-जुकाम की समस्या से भी बचाने के गुण होते हैं। इसके अलावा ग्रीन टी एक अन्य विकल्प है। यह शरीर में पानी की कमी को दूर करने के साथ-साथ आपको ऊर्जावान भी बनाए रखेगी। पालक जैसी पत्तेदार सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा सेवन और भोजन के साथ हमेशा सलाद खाने की आदत (खीरा-मूली-प्याज-चुकंदर) भी आपको पर्याप्त हाइड्रेट रखेगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here