नई दिल्ली: लॉकडाउन (Lockdown) में सबसे ज्यादा लोगों को खाने की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इस परेशानी से लोगों को निजात दिलाने के लिए कई संस्थाएं और स्वयंसेवक आगे आए हैं और जरूरतमंदों में खाना बांट रहे हैं. कुछ ऐसी ही पहल भारतीय रेलवे (Indian Railway) द्वारा भी की जा रही है जिसके तहत देश में 300 जगहों पर रेलवेकर्मियों द्वारा गरीब और जरूरतमंदों में दो वक्त का खाना बांटा जा रहा है. 

रेल मंत्रालय के मुताबिक भारतीय रेलवे देश के 300 जगहों पर सुबह शाम गरीबों के लिए खाना उपलब्ध करा रहा है. वहीं मंत्रालय ने ये दावा किया है कि अबतक 20 लाख से ज्यादा लोगों में खाना बांटा जा चुका है. अधिकारियों ने बताया कि लॉकडाउन की शुरुआत से ही रेल मंत्रालय ने अपने तमाम कर्मचारियों को रेलवे स्टेशन के आस-पास इस काम में लगा दिया था.

लॉकडाउन के बाद देशभर में मजदूरों, कामगारों, माइग्रेंट लेबर और कुलियों की बड़ी तादाद ऐसी हो गई जिन्हें दो वक्त के खाने की जरूरत के लिए मुश्किल पैदा हो गई थी. लिहाजा रेलवे ने अपने तमाम रेलवे स्टेशनों के पास खाने का बंदोबस्त करना शुरू कर दिया था. बताते चलें कि रेलवे बड़े पैमाने पर खाना तैयार करने के लिए आईआरसीटीसी के किचन का इस्तेमाल कर रहा है. इसके साथ ही रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स यानी आरपीएफ की तरफ से भी बड़ी तादाद में खाने के पैकेट तैयार बांटे जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें:- पालघर साधु हत्याकांड: संतों की हत्या का सबसे ‘डरावना सच’, लिंचिंग पर सबसे बड़ा खुलासा!

रेलवे का कहना है कि जीआरपी, आरपीएफ और रेलवे स्टाफ की मदद से रेलवे स्टेशन के आसपास जरूरतमंदों कामगारों और तमाम गरीब लोगों को हर दिन इकट्ठा किया जाता है और उनमें भोजन वितरित किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि इसमें स्थानीय प्रशासन और स्वयंसेवी संगठनों की भी मदद रेलवे ले रहा है.

आईआरसीटीसी के बेस किचन नई दिल्ली के अलावा बेंगलुरु, हुबली में मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद, भुसावल, हावड़ा, पटना, गया, रांची, दीनदयाल उपाध्याय नगर, बालासौर, विजयवाड़ा खुरदा, कटपड़ी, तिरुचिरापल्ली, धनबाद, गुवाहाटी, समस्तीपुर, प्रयागराज, इटारसी, विशाखापट्टनम, चैंगलपट्टू, पुणे, हाजीपुर, रायपुर, टाटानगर इसके साथ ही देश के दूसरे कई जॉन में रेलवे हर दिन सुबह-शाम खाना उपलब्ध करा रहा है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here