शराब बनी सिरदर्द : अफरातफरी, लंबी कतारें, लाठीचार्ज, बंद करने पड़े ठेके

पूर्वी दिल्ली में शराब के ठेके बंद करा दिए गए हैं

नई दिल्ली:

दिल्ली सहित कई जगहों पर शराब की दुकाने खोलने का फैसला सिरदर्द बनता जा रहा है. शराब के शौकीन लोगों ने लॉकडाउन और सोशल डिस्टेसिंग जैसी सारी लक्ष्मण रेखाओं को तोड़ डाला है और नतीजा यह है कि शराब के ठेकों के आगे 500-500 लोगों की कतारें लगीं हुई हैं. दिल्ली के  नरेला  करोलबाग,चन्द्र नगर,कृष्णा नगर,नरेला ,गीता कॉलोनी जैसे इलाकों सहित पूर्वी दिल्ली में शराब की दुकानें बंद कर दी गई हैं और कई जगहों पर पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा है.  दिल्ली के दरियागंज में शराब की एक दुकान पर करीब 500 लोगों की लाइन लगी हुई है. इसी तरह कोलकाता में भी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा है.

सरकार के एक अधिकारी के अनुसार केन्द्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) के लॉकडाउन के नियमों में ढील देने के बाद दिल्ली में शराब की करीब 150 दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है.  शहर में सरकारी एजेंसियों और निजी तौर पर चलाई जाने वाली 850 शराब की दुकानें हैं।. आदेश में आबकारी विभाग ने अधिकारियों से एल-7 लाइसेंस प्राप्त निजी दुकानों की पहचान करने को भी कहा है, जो एमएचए के निर्देशों को पूरा करती हों. अधिकारियों से तीन दिन में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है. 

आबकारी विभाग के अनुसार एजेंसियों को यह कहते हुए एक हलफनामा देना होगा कि शराब की दुकानें खोलने की अनुमति एमएचए के दिशा-निर्देश पूरे करने पर दी गई है. (इनपुट भाषा से भी)

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here