चुंबक की को-फाउंडर शुभ्रा चड्ढा ने बिजनेस करने के बारे में कभी नहीं सोचा था. बिजनेस करने को लेकर उनके पास आइडिया था लेकिन उनमें अच्छी सैलरी वाली कॉरपोरेट जॉब को छोड़ने की हिम्मत नहीं थी. आइए जानें उनकी रोचक कहानी…

चुंबक की को-फाउंडर शुभ्रा चड्ढा ने बिजनेस करने के बारे में कभी नहीं सोचा था. बिजनेस करने को लेकर उनके पास आइडिया था, लेकिन उनमें अच्छी सैलरी वाली कॉरपोरेट जॉब को छोड़ने की हिम्मत नहीं थी. लेकिन साल 2008 में उन्होंने अपनी बेटी के जन्म के बाद अपनी जॉब से ब्रेक लिया. यही वजह समय था जब उन्होंने बिजनेस के बारे में सोचना शुरू कर दिया.

इस तरह शुरू की कंपनी
उनका टारगेट ऐसे कस्टमर थे, जिनकी अच्छे गिफ्ट्स की तलाश कभी खत्म नहीं होती. वह भारत के ऐसे लोगों के लिए प्रोडक्ट बनाना चाहती थीं, जो बेहद अलग तरह की रैंज चाहते हैं . उन्होंने शुरुआत में गिफ्ट बिजनेस के बारे में सोचा और उन्होंने ऐसे ऑप्शन सोचे जो आसानी से नहीं मिलते. उन्होंने करीब एक साल इसके कॉन्सेप्ट, डिजाइन, सप्लायर, प्राइसिंग, रिटेल स्ट्रैटजी पर काम किया और चुंबक की शुरुआत की.

कभी कंपनी में मजाक बन गया था ये एंप्लॉई, अब उसी को बनाया नंबर-1

आज कमाती हैं एक करोड़ रुपये
शुभ्रा ने मार्च 2010 में बंगलुरु में अपना पहला स्टोर खोला. ये स्टोर उन्होंने अपने पति विवेक प्रभाकर के साथ खोला. वह सन माइक्रोसिस्टम में फुल टाइम जॉब करते थे. उनकी शुरुआती प्रोडक्ट रेन्ज में मैग्नेट्स, की-चेन और कुशन कवर थे. अब उनके प्रोडक्ट रेन्ज में 100 से अधिक प्रोडक्ट शामिल है. वह अपने प्रोडक्ट अपनी वेबसाइट और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए बेचती हैं. उनके देश भर में 17 आउटलेट हैं. सालाना उनकी कमाई 12 करोड़ रुपये है.  

ये भी पढ़ें

इस आइडिया के दम पर सांभवी ने एक साल में खड़ी की 20 करोड़ की कंपनी
कभी ठेले पर बेचती थीं समोसे, अब हैं 14 रेस्‍टोंरेंट की मालकिन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सक्सेस स्टोरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: June 7, 2018, 9:25 AM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here