WhatsApp अब Amazon और वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली Flipkart को  रिलायंस रिटेल के ई-कॉमर्स वेंचर JioMart के जरिए टक्कर देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसकी जानकारी बुधवार को फेसबुक और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के बीच हुई साझेदारी के दौरान की गई है। बता दें कि रिलायंस ने घोषित किया है कि फेसबुक ने जियो प्लेटफॉर्म लिमिटेड में 9.99 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है, जिसकी कीमत 43,574 करोड़ रुपये है। इस साझेदारी के दम पर फेसबुक RIL के Jio प्लेटफॉर्म के जरिए भारत में अपना विस्तार करेगी। कंपनी के लिए भारत 480 मिलियन से अधिक कनेक्टेड यूज़र्स के साथ चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है। रिलायंस रिटेल ने इस साल जनवरी में JioMart को महाराष्ट्र के नवी मुंबई, ठाणे और कल्याण क्षेत्रों में पायलट टेस्टिंग के आधार पर पेश किया था।

Reliance इंडस्ट्रीज़ का बयान है कि रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म, रिलायंस रिटेल और व्हाट्सऐप के बीच नई साझेदारी की वजह से जल्द ही ग्राहक अपने “नजदीकी किराना स्टोर्स तक आसान पहुंच” पाने के लिए व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करके JioMart में लेनदेन कर सकेंगे और अपने घरों में प्रोडक्ट्स और सर्विसेस पा सकेंगे।

खबर है कि JioMart प्लेटफॉर्म ने अमेज़न और फ्लिपकार्ट को टक्कर देने के लिए पहले से ही तैयारी करनी शुरू कर दी है। कंपनी के पास भारतीय उपभोक्ताओं के लिए कई छोटे व्यापारी और किराना स्टोर हैं। हालांकि देश में व्यापक रूप से इसके संचालन की शुरूआत होनी बाकी है।

रिलायंस जियो जिस तरह अमेज़न और फ्लिपकार्ट को टक्कर देने के लिए जियोमार्ट को आगे बढ़ाने की योजना बना रही है। वहीं, दूसरी ओर व्हाट्सऐप ने भारत सहित कुछ अन्य बाजारों में छोटे बिज़नेस के लिए अपने मूल प्लेटफॉर्म में बदलाव किए हैं। फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी ने जनवरी 2018 में छोटे और मध्यम उद्यमों (SMEs) के लिए संचार आसान बनाने के लिए एक समर्पित WhatsApp Business ऐप लॉन्च किया। इसके अलावा WhatsApp Pay भी जारी किया, जिससे पेमेंट करना आसान हो जाए। हालांकि यह फीचर फिलहाल टेस्टिंग मोड में है। इस फीचर के चलते यूज़र्स ऐप के अंदर से ही डिजिटल लेनदेन कर सकते हैं। यह नोट करना भी महत्वपूर्ण है कि देश में पहले से ही व्हाट्सऐप के 400 मिलियन यानी 40 करोड़ से अधिक यूज़र्स हैं।

हालांकि इतने यूज़र्स के होने के बाद भी व्हाट्सऐप के पास कमाई करने का कोई लोकल साधन नहीं था, लेकिन अब रिलायंस जैसे बड़े घरेलू खिलाड़ी की मदद से इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप फेसबुक के लिए पैसे कमाने के बड़े साधन के रूप में उभरने के लिए तैयार हो गया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here