पेट के लिए अमृत समान है बेल, शरबत बनाने से पहले इस बात का जरूर रखें ख्याल

शरबत बनाने के लिए बेल का अच्‍छी तरह से पका होना जरूरी होता है. बेल में नैचुरल शुगर होता है इसलिए उसमें अतिरिक्‍त चीनी मिलाने की जरूरत नहीं होती.

बेल गर्मी के दिनों में एक औषधि समान है. यह शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करता है. बेल, हृदय और मस्तिष्क के लिए सुपर टॉनिक का काम करता है. यह आंतों को हेल्दी बनाए रखता है जिससे पेट की परेशानियां दूर होती हैं.

गर्मी के दिनों में बेल का शरबत पीना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है. यह कई तरह की शारीरिक परेशानियों को दूर कर देता है. इसका शीतल गुण शरीर को ठंडक प्रदान करता है. बेल गर्मी के दिनों में एक औषधि समान है. यह शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करता है. बेल (Bael) विभिन्न नामों से जाना जाता है. इसे अंग्रेजी में Wood Apple, भारतीय बेल या स्‍टोन एप्‍पल भी कहते हैं. यह देशी फल पोषक तत्वों और औषधीय गुणों से भरपूर है.

बेल, हृदय और मस्तिष्क के लिए सुपर टॉनिक का काम करता है. यह आंतों को हेल्दी बनाए रखता है जिससे पेट की परेशानियां दूर होती हैं. Healthbenefitstimes की खबर के अनुसार इसमें टैनिन, फ्लेवोनोइड्स और कैमारिन जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो शरीर के सूजन को कम करते हैं. यह रक्तस्राव को रोकता है. कच्‍चा या आधपका बेल भी पाचन के लिए बहुत अच्छा होता है. गर्मी में पके बेल का शरबत बनाकर पीना फायदेमंद होता है. यह स्कर्वी को रोकने या ठीक करने में उपयोगी है. यह पेट को मजबूत करता है और पाचन क्रिया को बढ़ावा देता है. बेल में एंटी-फंगल और एंटीहेल्मिंटिक गुण भी होता है, जो शरीर से आंतरिक परजीवी को बाहर निकालता है.

इसे भी पढ़ेंः आयुर्वेद के अनुसार जानें दूध पीने का सही समय, दूर होगी ये खास परेशानी

अल्सर को ठीक करने में मददगारबेल पेट के म्यूकोसा पर एक लेप बनाती है और अल्सर को ठीक करने में मदद करती है. सुबह खाली पेट बेल का पना या शरबत जरूर पिएं.

हैजा के इलाज में मददगार
बेल टैनिन का उच्च स्रोत है, जो हैजा के इलाज के लिए जरूरी है. यह छिलके में लगभग 20 प्रतिशत और गूदे में लगभग 9 प्रतिशत होता है.

कोलेस्ट्रॉल को करता है नियंत्रित

बेल का रस लिपिड प्रोफाइल और ट्राइग्लिसराइड्स को नियंत्रित करता है और ब्लड में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है. हालांकि ज्यादा मात्रा में इसका सेवन न करें.

ब्लड शुगर को करता है कंट्रोल
बेल में Laxative होता है जो ब्लड शुगर को नियंत्रित रखता है. इससे डायबिटीज को रोकने में मदद मिलती है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आपने कभी पी है प्याज की चाय, शरीर को मिलता है बड़ा फायदा

बेल का शरबत बनाते समय बरतें सावधानी
शरबत बनाने के लिए बेल का अच्‍छी तरह से पका होना जरूरी होता है. बेल में नैचुरल शुगर होता है इसलिए उसमें अतिरिक्‍त चीनी मिलाने की जरूरत नहीं होती. बेल का शरबत बनाने के लिए बर्फ का इस्तेमाल बिल्‍कुल न करें. नॉर्मल पानी में ही शरबत बनाना ज्‍यादा फायदेमंद होता है. सबसे जरूरी बात ये कि इसका सेवन भी अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हेल्थ & फिटनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 6, 2020, 6:23 AM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here